Mukesh Kumar Pandya आदमी उलझनों में खोया है आप कहते रहें कि सोया है है मुकम्मल ग़ज़ल हरेक बश़र बस इसे फिक्र ने डुबोया है जो लहू से जरा नहीं…
Continue Reading